My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1

पहाडों की रानी मसूरी की मेरी पहली यात्रा


नमस्कार मित्रो
में राज कुमार बघेल और में एक प्रोफेशनल ट्रैवलर हूं और यात्रा से सम्बंधित मेरे जो भी अनुभव हैं वो में आपके साथ शेयर करूँगा और अगर आपको यात्रा से सम्बंधित कोई भी सवाल पूछना है तो वो आप मुझे कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं।

My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Mussoorie trip

मुख्य समस्या:-


दोस्तों घूमना फिरना, नयी जगह पर जाना और हिल स्टेशन किसे पसंद नहीं है आज हर कोई इन जगहों पर जाने का सपना अपने मन में लिए हुए है. परन्तु एक परेशानी सबके सामने खड़ी होती है वो है पैसे की कमी

 परन्तु अगर सही से मैनेज किया जाये तो ये कमी भी दूर हो सकती है जैसे मैं करता हूँ कम पैसों में भी आप कहीं भी घूमने का आनंद ले सकते हो फिर चाहे वो कोई शहर हो या हिल स्टेशन बस सही समय और सही तरीका होना चाहिए

 में आपको अपने दोस्तों के साथ अपनी पहली यात्रा के अनुभव के बारे में बताता हूँ जो बहुत ही कम पैसों में बहुत ही अच्छी यात्रा थी जिसने मेरी ज़िन्दगी जीने का अंदाज ही बदल दिया.

My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
George everest Mussoorie

यात्रा का अनुभव:-


बात सं 2011 की है जब में झाँसी की एक कंपनी में डिज़ाइन इंजीनियर की पोस्ट पर कार्यरत था और में कंपनी की तरफ से बहुत टूर करता था इसलिए मुझे तो घुमने के सिवा कुछ भी अच्छा नहीं लगता था

 मतलब एक अलग ही नशा था तो मैंने घूमने का प्लान बनाया और अपने दोस्तों से बात की तो वो भी तुरंत ही मान गए फिर प्लानिंग हुई और दो दिन बाद का समय तय हुआ मजे की बात ये है की ये सारा काम फ़ोन से ही हो रहा था
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Mussoorie forest

 क्योंकी में झांसी में था और मेरे दोस्त पलवल हरियाणा में रहते थे जोकि हमारा होमटाउन है हमने फोन पर ही समय तय किया और दो दिन बाद यात्रा का समय तम हुआ और अपने बैग पैक किये
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Amazing view of Mussoorie hill

Best tourist places in Sikkim

इस यात्रा को लेकर सभी इतने उत्सुक थे की दो दिन पहले ही अपने बैग पैक कर लिए इसका एक कारण ये भी था की हम पांच दोस्त पहली बार एक साथ घुमने जा रहे थे और वो दिन भी आ गया मैने भी झांसी से दिल्ली के लिए ट्रेन पकड़ी और रात को आठ बजे में दिल्ली पहुंच गया

 और साढे आठ बजे तक मेरे दोस्त भी स्टेशन पर पहुंच गये हम सब मिले और ट्रेन का इंतजार करने लगे हमारी ट्रैन रात के साढे नौ बजे थी मेरे दोस्त मेरे लिए भी घर से खाना लेकर आए थे.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Ganges River Ghaat

 हमारी ट्रेन लेट थी तो हमने स्टेशन पर ही खाना खाया इतने में ही हमारी ट्रेन आ गई और दम ट्रेन में बैठ गए और सोने की कोशिश करने लगे पर नींद कैसे आने वाली थी सभी के मन में एक अलग ही खुशी थी.

 और में यात्रा की प्लानिंग कर रहा था क्योंकि मेरे पास बस दो दिन की प्लानिंग थी और हमारी ट्रिप कम से कम चार दिन की थी यही सोचते सोचते कब नींद आ गई पता नहीं और जब नींद टूटी तो ट्रेन हरिद्वार पहुंचने वाली थी।
Best tourist places in Himachal Pradesh

 मैने सब को जगा दिया और ट्रेन हरिद्वार स्टेशन पर रुक गई हम पांचों दोस्तों ने स्टेशन पर उतर कर अपना मुंह धोया और ब्रश किया अगस्त के महीने में भी हरिद्वार का मौसम इतना सुहावना था की हर कोई खुशी से झूम उठा.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Sahastradhara Dehradun

 इतनी ठंडी हवा और पहाडों की ताजगी बस मन को मोह लिया सुबह के पांच बजे थे और अब हम चल दिये हर की पौड़ी गंगा मैया के घाटों की तरफ गंगाजी में डुबकी लगाने।

 स्टेशन के बाहर निकले तो बहुत से ऑटो और रिक्शा वाले बाहर खडे थे लेकिन हम लोगों ने दो किलोमीटर दूर घाटों तक पैदल ही जाने का निश्चय किया और चल दिये ठंडे ठंडे मौसम में पता ही नही चला कब दो किलोमीटर निकल गए

 अब हम गंगा जी के घाट पर पहुंच गए गंगा जी का पानी इतना ठंडा था कि पानी में घुसते ही शरीर में एक सिहरन सी दौड गई और ठंड से हम सब कांपने लगे और बारिश की वजह से गंगा जी freeमें पानी और पानी का बहाव बहुत ज्यादा था।
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful view of Ganga river



नहाने के बाद हम सभी मां ज्वाला जी के दर्शन करने के लिए गए फिर प्लान के मुताबिक हमें ऋषिकेश जाना था हमने बाहर रोड से ऋषिकेश के लिए बस में बैठ गए हरिद्वार से ऋषिकेश का रास्ता राजाजी नेशनल पार्क से होकर जाता है।

 यह रास्ता इतना सुंदर और मनमोह दो कि मै कुछ बता नहीं सकता इतनी हरियाली है कि जो भी देखे बस देखता ही रह जाए। टेढे मेरे रास्ते से होते हुए आखिरकार हम लोग ऋषिकेश पहुंचे बस स्टैंड के पास ही एक सरकारी रेस्ट हाउस था जिसमें हमें रूम भी मिल गया और अब दोपहर का टाइम भी हो चुका था
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Lakshman jhoola

 हमने अपने बैग रूम में रखे और बाहर खाना खाने चले गए क्योंकि रेस्ट हाउस में खाने की व्यवस्था नहीं थी पर ये कोई परेशानी नहीं थी क्योंकि रेस्टहाउस के बाहर ही बहुत सारे रेस्टोरेंट थे वहीं पर हमने खाना खाया और अपने रुम में वापस आ गए।

https://www.youtube.com/channel/UC7hm9aaX1nI91i6MAM90R1w

कुछ देर आराम करने बाद हम लोग गंगा जी के दर्शन के लिए निकल पडे और हम लोगों ने गंगा जी में स्नान किया और लक्ष्मन झूला व राम झूला भी घूमे और वहाँ की मार्केट में भी घूमे और कुछ खरीदारी की तब तक शाम हो चुकी थी फिर हम लोग वापिस अपने होटल आ गए।

हमने अपने कपड़े बदले और खाना खाने के लिए बाहर निकले अंधेरा हो चुका था बाहर का नजारा देखकर तो सभी खुशी से झूम उठे चारों तरफ ऊंचे ऊंचे पहाडों पर चमकती हुई लाइटों ने सभी कामन मोह लिया ऐसा नजारा सभी ने पहली बार देखा था
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Mall road Mussoorie


 बस दिल कर रहा था कि उडकर अभी पहाड की चोटी पर पहुंच जाऊं ये रुम में वापिस आ गए और अगले दिन की प्लानिंग करने लगे सुबह जल्दी हमें नीलकंठ महादेव के दर्शन करने जाना था और संयोगवश अगले दिन महाशिवरात्रि थी तो हमारा रोमांच और भी बढ गया था फिर हम सभी सो गए।

अगले दिन हम सभी सुबह सात बजे उठ गए और तैयार होकर निकल पड़े अगले रोमांचक सफर के लिए पहले तो हमने गंगजी में स्नान किया और बॉटल में गंगाजल लिया और नीलकंठ महादेव के दर्शन के लिए निकल पड़े
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Shri Ram jhoola rishikesh

 हम राम झूला को पार करने कैब ली जिसमें हमारे साथ दो और यात्री थे हम टोटल सात यात्री थे हमारी गाड़ी चल पड़ी पहले तो हम गंगा के किनारे से होकर चले और फिर बाद में जो घुमावदार चढ़ाई शुरू हुई तो हमारे पशीने छूटने लगे

Amazing video of Manali, Manikaran and Kheerganga trak

 एक तरफ तो पहाड और दूसरी तरफ खाई या कहें एक तरफ डर और एक तरफ रोमांच दोनों साथ साथ चल रहे थे जैसे जैसे हमारी गाड़ी ऊपर चढ़ती जा रही थी डर भी वैसे ही बढ रहा था
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Neelkanth Mahadev mountain

 आखिरकार हम ऊपर पहुंच गए और जब वहाँ का नजाए देखा तो मानो जन्नत में आ गए हों ऊपर से देखने का जो नजारा था वो तो शब्दों में बयां कर ही नहीं सकता वहाँ के सीढीनुमा खेतों की अलग ही छटा थी

 और पहाड की चोटी से आते हुए छोटे छोटे झरनों का कुदरती ठंडा और मीठा पानी जिसकी बात ही निराली थी हमने अपनी बॉटलों में पीने के लिए पानी भर लिया और नीलकंठ मंदिर की तरफ चल दिये
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful view from Neelkanth Mahadev mountain

 मंदिर में महाशिवरात्री होने की वजह से करीब दो किलोमीटर लंबी लाइन लगी थी हम भी लाईन में लगे करीब चार या पांच घंटे के बाद हमें भोलेनाथ के दर्शन हुए फिर हमने जल चढ़ाया और प्रसाद लिया और फिर अपनी गाडी की तरफ चल दिए
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Neelkanth Mahadev temple

Amazing video of Mata Vaishno Devi Yatra

 फिर उसी रास्ते से हम वापिस आ गए हम सब खाली हाथ नहीं आए बहुत सी यादे अपने साथ लेकर आए थे अब तक शाम भी हो चुकी थी और थकान भी बहुत थी तो हम सीधे अपने होटल चले गए और अपने कपड़े बदल कर खाना खाने के बाद अगले दिन की प्लानिंग करने लगे

 हमारे पास दो दिन का समय और था सो हमने मसूरी जाने का प्लान बनाया जिसके लिए हमें सुबह देहरादून के लिए निकलना था इसलिए हम जल्दी सो गए।


My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Neelkanth Mahadev Mandir

तो दोस्तो आज के लिए इतना ही आगे का अनुभव में आपको अगले ब्लाग में बताऊंगा आगे और भी मजेदार अनुभव होने वाला है आगे का अनुभव जल्दी ही लिखूंगा। धन्यवाद।

My first travel queen of hills Mussoorie part-2
.........................................................................................
English Translation:-

My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1: -


Hello friends
I am Raj Kumar Baghel and I am a professional traveler and I will share with you all my experiences related to travel and if you have any questions related to travel, then you can write me in the comment box.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful view of Ganga river

 Main Problem: -


Friends do not like to roam, go to a new place and who does not like hill station, today everyone has dreams of going to these places in his mind.  But one problem stands in front of everyone is lack of money.

  But if managed properly, this deficiency can also be overcome like I do, even in less money, you can enjoy walking anywhere, whether it is a city or a hill station, just the right time and the right way.

  Let me tell you about the experience of my first trip with my friends, which was a very good journey in a very short amount of money, which changed the way I live my life.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Traveler life




Travel Experience: -


The point is in 2011, when I was working on a design engineer post in a company of Jhansi and I used to do a lot of touring on behalf of the company, so I did not like anything other than walking, that means I had a different addiction.

  Made a plan and talked to his friends, he too immediately agreed, then planning took place and after two days, it was a matter of fun that all this work was being done by phone because in Jhansi  I was and my friend Palwal lived in Haryana which is our hometown.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful view of mountains

 We fixed the time on the phone and two days later the travel time was over and everyone packed their bags and were so anxious about this trip that two days ago.

  One of the reasons for packing it was that we were going to hang out together for the first time and that day also came, I caught a train from Jhansi to Delhi and reached Delhi at eight o'clock at night.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful mountain

  And by half past eight, my friends also reached the station. We all met and started waiting for the train. Our train was at half past nine in the night. My friends had brought food for me from home too.
Read more.... top 20 most popular tourist places in Jammu and Kashmir

 Our train was late, so we had food at the station itself.  Our train came in and ate, we sat on the train and started trying to sleep, but how was going to sleep, everyone had a different happiness and was planning a trip.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Amazing view of mountains

  Because I had just two days of planning and our trip was at least four days, thinking that when I fell asleep I did not know and when the sleep was broken, the train was going to reach Haridwar.

  I woke everyone up and the train stopped at Haridwar station. All five of us came down to the station and washed our mouths and brushed the weather of Haridwar in the month of August.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Ganga river from Ram jhoola

  The freshness just fascinated the mind, it was five o'clock in the morning and now we went to take a dip in Gangaji towards the ghats of Har Ki Pauri Ganga Maia.

  When they came out of the station, many autos and rickshaws were standing outside, but we decided to walk two kilometers to the ghats and we did not know in the cold cold weather when two kilometers left.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Ganga river from Lakshman jhoola

  The water of Ganga ji reached the ghat was so cold that as soon as it entered the water, a shudder ran in the body and due to the cold we all started to tremble and due to the rain the flow of water and water in Ganga ji was very  Was more.

https://www.youtube.com/channel/UC7hm9aaX1nI91i6MAM90R1w

After bathing, all of us went to see Maa Jwala ji, then according to the plan we had to go to Rishikesh. We boarded the bus from the road outside to Rishikesh.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Maa jwala devi temple

 The road from Haridwar to Rishikesh goes through Rajaji National Park.  Give this path so beautiful and charming that I cannot tell anything, it is so green that anyone who sees it just keeps watching.

  After being on my way, finally we reached Rishikesh There was a government rest house near the bus stand in which we also got a room and now it was already noon, we put our bags in the room and went out to eat because the rest.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful mountain view of Neelkanth Mahadev mountain

  There was no arrangement of food in the house, but it was not a problem because there were many restaurants outside the resthouse, where we had dinner and returned to our room.  .

After some rest, we went out to see Ganga ji and we took a bath in Ganga ji and also went to Laxman Jhula and Ram Jhula and went to the market there and did some shopping till then it was evening.  We returned to our hotel.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Neelkanth Mahadev temple

We changed our clothes and came out to eat, it was dark, seeing the outside sight, everyone shook with joy, the shining lights on the high mountains all around attracted all the happiness, everyone had seen this sight for the first time.

  It was said that Udkar should reach the top of the mountain now, he came back in the room and started planning for the next day, early in the morning we had to go to see Neelkanth Mahadev and, incidentally,  So the day was Mahashivarathri our thrill was even greater then we were all asleep.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful view of mountains

The next day we all got up at seven in the morning and got ready and set out for the next exciting journey.

 First, we took a bath in Gangaji and took Ganga water in the bottle and went out to see Neelkanth Mahadev and we took a cab to cross the Ram Jhula in which our  There were two more passengers with us.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful view from Mussoorie

  On one side, there was a hill and on the other side, or on one side, both fear and thrill were going together, as the fear was increasing as our car was going up, finally we reached the top and when we were there  If you have seen that you have come to paradise, the view from above can not be described in words, the steps of the fields there were different and the natural waterfalls coming from the top of the mountain were natural.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Beautiful mountain in summer

  Dr and sweet water, which was unique, we filled our bottles with water to drink and walked towards Neelkanth temple. Due to Mahashivratri, the temple had a line of about two kilometers long, we also spent about four or five hours in the line.

  After we saw Bholenath, then we offered water and took prasad and then walked towards our car, then we came back from the same path, we all did not come empty handed.
My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1
Har ki poudi haridwar

  De had brought it with us till now it was already evening and the fatigue was too much, so we went straight to our hotel and changed our clothes and started planning for the next day after having dinner, we had two days time and we slept  Planed to go to Mussoorie for which we had to leave for Dehradun in the morning so we slept early.

So friends, in the same experience for today, I will tell you in the next blog that I am going to have even more fun experiences, I will write further experiences soon.
Thank you.

Comments

Popular posts from this blog

Top 20 Most Visited Places in Jammu and Kashmir

Best 20 places to visit in Jaipur that you must visit

My first travel-2 queen of hills