Skip to main content

नीम करौली बाबा | नीब करोरी बाबा | neeb karori dham | Neem Karoli Dham Uttrakhand #rbtgvlog #vlog

via IFTTT

Best 10 Tourist Destinations in Udaypur | उदयपुर में सर्वश्रेष्ठ 10 पर्यटन स्थल

उदयपुर के 10 बेहतरीन पर्यटन स्थल 

उदयपुर राजस्थान का एक महत्वपूर्ण यात्री शहर है जिसे अन्यथा झीलों का शहर कहा जाता है। उदयपुर राजस्थान राज्य की संपत्ति है और सुंदर अरावली पहाड़ियों से घिरा हुआ है, जो इस शहर को बेहद खूबसूरत बनाती है।

https://www.mypassion.co.in/2022/01/best-10-tourist-destinations-udaypur.html
उदयपुर किला

यह शहर प्राकृतिक सुंदरता, मंदिरों और लुभावनी वास्तुकला से समृद्ध है, जो इसे भारत का एक विशेष पर्यटन स्थल बनाता है। आप उदयपुर शहर के पिछोला पूल में बोट राइड लेकर अपनी आउटिंग को जरूरी बना सकते हैं।

झीलों से घिरा उदयपुर घाटी के भीतर स्थित एक ऐसा शहर हो सकता है जो अपनी भव्यता और प्राकृतिक रत्नों के साथ हर जगह से पर्यटकों की यात्रा को यादगार बनाता है। यह 'मेवाड़ के गहना' से लेकर 'पूर्व के वेनिस' तक के आकर्षण के लिए अपने सभी नामों को सही ठहराता है। इस शहर के दौरान लेक पैलेस होटल शहर के मुख्य आकर्षणों में से एक है।

अगर आप उदयपुर की यात्रा करना चाहते हैं तो इस पाठ को अवश्य पढ़ें, इस दौरान हम आपको उदयपुर घूमने की पूरी जानकारी और इसलिए इसके आसपास के प्रमुख पर्यटन स्थलों के बारे में बताने जा रहे हैं


1. सिटी पैलेस

सिटी पैलेस की स्थापना 16वीं शताब्दी में शुरू हुई थी। इसे स्थापित करने का विचार एक संत ने राजा उदय सिंह द्वितीय को दिया था। इस प्रकार यह परिसर 400 वर्षों में निर्मित भवनों का एक समूह है।

यह एक भव्य परिसर है। इसे बनाने में 22 राजाओं का योगदान था। इस परिसर में प्रवेश करने के लिए एक टिकट है। आप बड़ी पॉल से टिकट लेकर इस परिसर में प्रवेश कर सकते हैं। परिसर में प्रवेश करते ही आपको भव्य त्रिपोलिया गेट दिखाई देगा।

https://www.mypassion.co.in/2022/01/best-10-tourist-destinations-udaypur.html
सिटी पैलेस

इसमें सात चाप हैं। ये चाप उन सात स्मारकों के प्रतीक हैं जब राजा को सोने और चांदी से तौला जाता था और उसके वजन के बराबर सोना और चांदी गरीबों में वितरित किया जाता था। इसके सामने की दीवार को 'अगड़' कहते हैं। यहां हाथि

यों की लड़ाई का खेल हुआ।

इस परिसर में एक जगदीश अभयारण्य भी है। इस परिसर का एक टुकड़ा सिटी पैलेस संग्रहालय है। इसे अब सरकारी संग्रहालय घोषित किया गया है। वर्तमान में शंभुक निवास शाही परिवार का निवास स्थान है।

इसके आगे दक्षिण दिशा में 'फतह प्रकाश भवन' और 'शिव निवास भवन' है। फिलहाल दोनों को होटल में तब्दील कर दिया गया है।

2. सिटी पैलेस संग्रहालय उदयपुर

जैसे ही आप इस संग्रहालय में प्रवेश करेंगे, आपको कुछ बेहतरीन पेंटिंग्स दिखाई देंगी। ये तस्वीरें श्रीनाथजी, एकलिंगजी और चतुर्भुजी की हैं। ये सभी पेंटिंग मेवाड़ शैली में बनाई गई हैं।

इसके बाद महल और चौक मिलने लगते हैं। इन सभी में इनके बनने का समय और इनके रचयिता का उल्लेख मिलता है। सबसे पहले राज्य प्रांगण आता है। इसके बाद आता है चंद्र महल।

यहां से पिछोला झील का बेहद खूबसूरत नजारा दिखता है। बड़ी महल या अमर विलास महल पत्थर से बना है। इस इमारत से एक बगीचा भी जुड़ा हुआ है। कांच का बुर्ज लाल रंग के कांच से बना एक कमरा है।

https://www.mypassion.co.in/2022/01/best-10-tourist-destinations-udaypur.html
सिटी पैलेस संग्रहालय 

कृष्णाऊ निवास में मेवाड़ शैली के अनेक चित्र हैं। इसका एक कमरा जेम्स टॉड को समर्पित है। इसमें टॉड का लिखित इतिहास और उनके कुछ चित्र शामिल हैं। मोर चौक 1620 ई. में बनाया गया था।

19वीं शताब्दी में इसमें तीन नृत्य करने वाले हिरणों की मूर्तियां स्थापित की गई थीं। जनाना महल शाही परिवार की महिलाओं का निवास स्थान था।

स्थान: जगदीश मंदिर से 150 मीटर दक्षिण में। प्रवेश शुल्क:: वयस्कों के लिए 50 रुपये। और बच्चों के लिए 30 रुपये। समय: सुबह 9:30 से शाम 4:30 बजे तक, सभी दिन खुला रहता है।

https://youtu.be/wQwxp-a2omg

अन्य वीडियो देखें :- Beautiful video of Chandrabhaga beach Konark Odisha must watch

3. राजकीय संग्रहालय उदयपुर

इस संग्रहालय में मेवाड़ से संबंधित अभिलेख रखे गए हैं। यह शिलालेख दूसरी शताब्दी का है। ईसा पूर्व से 19वीं शताब्दी तक। यहां कई मूर्तियां भी रखी गई हैं। मेवाड़ शैली में बने कृष्ण और रुक्मणी के कई चित्र भी यहां रखे गए हैं।

इसमें खुर्रम (बाद में शाहजहाँ) का सफा भी है। जब खुर्रम ने जहाँगीर के विरुद्ध विद्रोह किया तो वह उदयपुर में ही रहा। स्थान: सिटी पैलेस कॉम्प्लेक्स प्रवेश शुल्क: 3 रुपये समय: सुबह 10 से शाम 5 बजे तक। शुक्रवार बंद।

4. ग्लास गैलरी उदयपुर

यह गैलरी पैसे की बर्बादी को दर्शाती है। 1877 में, राणा सज्ज ना सिंह ने एफ एंड सी ओस्लर और इंग्लैंड की स्थापना की। ये कांच का सामान कंपनी से खरीदा गया था। इन वस्तुओं में कांच की कुर्सियाँ, बिस्तर, सोफा, डिनर सेट आदि शामिल थे।

बाद के शासकों ने इन सामानों को सुरक्षित रखा। अब इन वस्तुओं को दर्शनार्थियों के दर्शन के लिए फतह प्रकाश भवन के दरबार हॉल में रखा गया है। स्थान: फतह प्रकाश महल प्रवेश शुल्क:: वयस्कों के लिए 325 रुपये। और बच्चों के लिए 165 रुपये। समय: सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक। सभी दिन खुला हुआ।

https://youtu.be/025vozdk8BU

अन्य वीडियो देखें :- Very knowledgable video of Konark Sun temple watch now

5. विंटेज कारें संग्रहालय उदयपुर

सिटी पैलेस परिसर से 2 किमी की दूरी पर पुरानी और अन्य पुरानी कारों का अच्छा संग्रह है। पर्यटकों के देखने के लिए यहां करीब दो दर्जन कारें रखी हुई हैं। इन कारों में 1934 ई. का रॉयल फैंटम भी है।

और 1939 में एक कैडिलैक कन्वर्टिबल भी है। 1939 ई. में जब जैकी कैनेडी उदयपुर के दौरे पर आए तो उन्होंने इसी कार से यात्रा की। प्रवेश शुल्क: 150 रुपये समय: सुबह 9:30 से शाम 5:30 बजे तक। हर दिन।

6. स्वामी जगदीश मंदिर उदयपुर

जगदीश मंदिर उदयपुर के केंद्र में स्थित एक विशाल मंदिर है। इसका निर्माण 1651 में समाप्त हुआ। यह उदयपुर में पर्यटकों के आकर्षण का एक प्रमुख केंद्र है। यह मंदिर मारू-गुजराना वास्तुकला का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।

इसमें भगवान श्री विष्णु की मूर्ति स्थापित है। कहा जाता है कि भगवान कृष्ण स्वयं जगन्नाथपुरी (उड़ीसा) से यहां आए थे।

7. बागोर की हवेली उदयपुर

यह पहले उदयपुर के प्रधान मंत्री अमरचंद वाडवा का निवास था। यह हवेली पिछोला झील के सामने है। इस हवेली का निर्माण 18वीं शताब्दी में हुआ था।

इस हवेली में 138 कमरे हैं। इस हवेली में हर शाम 7 बजे मेवाड़ी और राजस्थानी नृत्य का आयोजन किया जाता है। प्रवेश शुल्क: 25 रुपये समय: सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक। पूरे दिन खुला।

भारतीय लोक कला संग्रहालय कुछ ही दूरी पर स्थित है। कपड़े, पेंटिंग और कठपुतली की प्रदर्शनियां हैं। स्थान: गणगौरघाट हवेली प्रवेश शुल्क:: भारतीयों के लिए 15 रुपये और विदेशियों के लिए 25 रुपये। समय: सुबह 9 से शाम 6 बजे तक। पूरे दिन खुला।

https://youtu.be/TMGGKyuasCQ

अन्य वीडियो देखें :- Interesting history of Dhauli and king Ashoka watch now

8. आहार उदयपुर

इसका उपयोग मेवाड़ के शाही परिवार के लोगों के लिए कब्रिस्तान के रूप में किया जाता है। यहां मेवाड़ के 19 शासकों का स्मारक है। इन स्मारकों को चार दशकों में बनाया गया है। यहां का सबसे प्रमुख स्मारक महाराणा अमर सिंह का है।

अमर सिंह ने सिंहासन त्यागने के बाद अपना अंतिम समय यहीं बिताया था। यह स्थान हड़प्पा सभ्यता से भी जुड़ा हुआ है। यहां एक पुरातत्व संग्रहालय भी है। स्थान: शहर से 2 किमी पूर्व में प्रवेश शुल्क: 3 रुपये समय: सुबह 10 से शाम 5 बजे तक। शुक्रवार बंद।

9. मानसून भवन उदयपुर

इसे मूल रूप से सज्जनगढ़ के नाम से जाना जाता था। इसे सज्जन सिंह ने 19वीं सदी में बनवाया था। पहले यह वेधशाला के लिए जाना जाता था, लेकिन अब इसे लॉज में तब्दील कर दिया गया है। स्थान: शहर से 8 किमी पश्चिम में समय: सुबह 10 से शाम 6 बजे तक। पूरे दिन खुला। इस किले को उदयपुर का मुकुटमणि भी कहा जाता है।

10. उदयपुर की सात बहने

पानी के महत्व को समझते हुए, उदयपुर के शासक ने कई बांध और जल निकायों का निर्माण किया था। ये कुंड उस समय की विकसित इंजीनियरिंग का बेहतरीन उदाहरण हैं। पिछोला झील, दूध की थाली, गोवर्धन सागर, कुमारी तालाब, रंगसागर झील, स्वरूप सागर और फतेह सागर झील यहां की सात प्रमुख झीलें हैं।

उन्हें सामूहिक रूप से उदयपुर की सात बहनों के रूप में जाना जाता है। ये झीलें कई सदियों से उदयपुर की जीवन रेखा रही हैं। ये झीलें आपस में जुड़ी हुई हैं। जब एक सरोवर में अधिक पानी होता है तो उसका पानी अपने आप दूसरी झील में चला जाता है।

https://youtu.be/fNt9C8qXgM4

अन्य वीडियो देखें :- Mystery of Puri Jagannath temple watch now

उदयपुर के आसपास के अन्य आकर्षण

1. एकलिंग जी (हरिहर मंदिर और मीरा मंदिर)

एकलिंग राजस्थान के उदयपुर जिले में स्थित एक मंदिर परिसर है। यह स्थान उदयपुर से लगभग 18 किमी उत्तर में दो पहाड़ियों के बीच स्थित है। हालांकि उक्त स्थान का नाम 'कैलाशपुरी' है, लेकिन यहां एकलिंग का भव्य मंदिर होने के कारण इसे 'एकलिंग जी' के नाम से पुकारा गया।

कहा जाता है कि यहां राजा केवल अपने प्रतिनिधि के रूप में शासन करता है। इसीलिए उदयपुर के महाराणा को दीवान जी कहा जाता है। ये राजा किसी भी युद्ध में जाने से पहले एकलिंग जी की पूजा करते थे और उनसे आशीर्वाद लेते थे।

मंदिर परिसर के बाहर मंदिर ट्रस्ट द्वारा स्थापित एक लेख के अनुसार, वर्तमान चतुर्मुखी लिंग की स्थापना डूंगरपुर राज्य से मूल बनलिंग को इंद्रसागर में प्रवाहित करने के बाद की गई थी।

मेवाड़ के राणाओं ने यहां कई बार ऐतिहासिक महत्व की शपथ ली थी। यहां महाराणा प्रताप के जीवन में कई विपत्तियां आईं, लेकिन उन्होंने उन विपदाओं का डटकर सामना किया।

लेकिन एक बार जब उनका साहस टूटने वाला था, तो उन्होंने बीकानेर के राजा, पृथ्वी राज को उपदेश और वीर प्रेरणा से सराबोर एक पत्र का जवाब दिया, जिसने अकबर के दरबार में उपस्थित होने के बाद भी अपने गौरव की रक्षा की।

इस उत्तर में किसी विशेष वाक्यांश के शब्द आज भी याद किए जाते हैं:

Affiliate links :- वीडियो एडिटिंग और ब्लॉगिंग लिए लैपटॉप लेना है तो यहाँ क्लिक करें

अगर आपको विडिओग्राफी और फोटोग्राफी पसंद है और इसके लिए आपको सस्ता और अच्छा मोबाइल लेना है तो यहाँ क्लिक करें

अगर आप यूट्यूब के लिए वीडियो बनाना चाहते हैं तो आपको एक माइक की जरुरत पड़ेगी अगर सस्ता और अच्छा वायरलेस माइक लेना है तो यहाँ क्लिक करें

अगर आप यूट्यूब के लिए व्लॉग बनाना चाहते हैं तो आपको एक गिम्ब्ल की जरुरत पड़ सकती है जिससे आपकी वीडियो स्टेबल हो अगर सस्ता और अच्छा 3 एक्सिस गिम्ब्ल लेना है तो यहाँ क्लिक करें

आप तो जानते हो जब हम यूट्यूब के लिए व्लॉग बनाते हैं या कोई भी वीडियो बनाते हैं तो अगर वीडियो की क़्वालिटी अच्छी न हो तो यूट्यूब पर वीडियो ग्रो करना कितना मुश्किल है। और वीडियो क़्वालिटी अच्छी हो तो स्टोरेज की बहुत दिक्कत आती है इसके लिए आपको एक हार्ड डिस्क की जरुरत पड़ेगी। अगर आपको सस्ती और अच्छी हार्ड डिस्क लेनी है तो यहाँ क्लिक करें।

अगर आपको बेस्ट क़्वालिटी कैमरा लेना है तो आप यहाँ क्लिक करें। कृपया ध्यान दें :- मैंने ऊपर कुछ affiliate लिंक दिए हैं अगर आप इन लिकन्स का इस्तेमाल करके कुछ भी खरीदते हो तो मुझे उसका कमीशन मिल जायेगा। परन्तु आप घबराना मत ये कमीशन मुझे कंपनी की तरफ से मिलेगा इसके लिए आपको कोई भी एक्स्ट्रा पैसे नहीं देने होते हैं।

2. हल्दी घाटी

हल्दीघाटी दर्रा इतिहास में महाराणा प्रताप और अकबर की सेना के बीच हुए युद्ध के लिए प्रसिद्ध है। यह राजस्थान में एकलिंगजी से 18 किलोमीटर की दूरी पर है। यह अरावली पर्वत श्रृंखला में खमनौर और बलीचा गांवों के बीच का दर्रा है।

यह राजसमंद और पाली जिलों को जोड़ता है। यह उदयपुर से 40 किमी की दूरी पर है। इसका नाम 'हल्दीघाटी' इसलिए पड़ा क्योंकि यहाँ की मिट्टी 'हल्दी' जैसी पीली है।[1] इसे 'रति घाटी' भी कहा जाता है।

3. श्री नाथद्वारा जी

श्रीनाथद्वारा राजस्थान के राजसमंद जिले में स्थित है। श्रीनाथद्वारा पुष्टिमार्गीय वैष्णव संप्रदाय का प्रमुख (सिर) पीठ है। यहां नंदानंद आनंदकांड श्रीनाथजी का भव्य मंदिर है, जो करोड़ों वैष्णवों की आस्था का प्रमुख स्थान है।

हर साल देश-विदेश से लाखों वैष्णव भक्त यहां आते हैं, जो यहां के प्रमुख त्योहारों का आनंद लेने में तल्लीन हो जाते हैं। मावली रेल जंक्शन नाथद्वारा के पास स्थित है।

नाथद्वारा में एक कृषि बाजार है और मोहनलाल सुखाड़िया विश्वविद्यालय से संबद्ध एक सरकारी कॉलेज है। श्रीनाथजी का लगभग 337 वर्ष पुराना मंदिर राष्ट्रीय राजमार्ग पर रोडवेज बस स्टैंड से मात्र 1 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

जहां से सार्वजनिक परिवहन ऑटो रिक्शा सेवा एक निश्चित लागत (वर्तमान में 10 रुपये प्रति व्यक्ति) पर मंदिर तक पहुंचने के लिए उपलब्ध है।

श्रीनाथद्वारा दक्षिण राजस्थान में 24/54 अक्षांश 73/48 पर अरावली की सुरम्य सहायक नदियों के बीच विश्व प्रसिद्ध झीलों के शहर उदयपुर से 48 किमी उत्तर में राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 पर स्थित है।



अन्य वीडियो देखें :- Puri beach nightlife watch now

श्रीनाथद्वारा से

उत्तर:- राजसमंद (17) अजमेर (225) पुष्कर (240) जयपुर (385) दिल्ली (625) श्रीनाथद्वारा के उत्तर में स्थित प्रमुख नगर हैं।

दक्षिण:- उदयपुर (48) अहमदाबाद (300) बड़ौदा (450) सूरत (600) मुंबई (800) श्रीनाथद्वारा के दक्षिण में स्थित हैं।

पूर्व:- मंडियाना ((रेलवे स्टेशन (12)) मावली ((रेलवे स्टेशन (28))) चित्तौड़गढ़ (110) कोटा (180) श्रीनाथद्वारा के पूर्व में स्थित है।

पश्चिम:- फालना (180) जोधपुर (225) स्थित है।

बस सेवा :- श्रीनाथद्वारा के उत्तर, दक्षिण, पूर्व, पश्चिम में स्थित सभी प्रमुख शहरों से सीधी बस सेवा उपलब्ध है।

ट्रेन सेवा:- श्रीनाथद्वारा से देश के प्रमुख शहरों के लिए नजदीकी रेलवे स्टेशनों मावली (28) और उदयपुर (48) के लिए ट्रेन सेवा उपलब्ध है।

हवाई सेवा:- श्रीनाथद्वारा के निकटतम हवाई अड्डे डबोक (48) से देश के प्रमुख शहरों के लिए हवाई सेवा उपलब्ध है।

4. राजसमंद

(66 किमी उत्तर पूर्व) राजसमंद झील कांकरोली और राजसमंद शहरों के बीच स्थित है। इस झील की स्थापना मेवाड़ के महाराणा राज सिंह ने 17वीं शताब्दी में की थी।

इस झील का निर्माण गोमती, केलवा और ताली नदियों पर बांध बनाकर किया गया है। कांकरोली में झील के किनारे भगवान द्वारकाधीश श्री कृष्ण का मंदिर है।

और झील के पाल को नोचौकी पाल के नाम से जाना जाता है, राजसमंद झील पर निर्माण एक शानदार पर्यटन स्थल है, कांकरोली में "द्वारकेश जयते" श्लोक हर जगह सुनाया जाता है और श्रीनाथ जी का मंदिर यहां से 15 किमी दूर स्थित है।

नाथद्वारा में यहां पहुंचने के लिए उदयपुर से सीधी बस सेवा है, राष्ट्रीय राजमार्ग 8 राजसमंद शहर के राजनगर से होकर गुजरता है।

यातायात सुविधाएं

उदयपुर में सार्वजनिक परिवहन का मुख्य साधन बसें, ऑटोरिक्शा और रेल सेवाएं हैं।

हवाई मार्ग

निकटतम हवाई अड्डा उदयपुर हवाई अड्डा है। यह एयरपोर्ट डबौक में है। जयपुर, जोधपुर, औरंगाबाद, दिल्ली और मुंबई से नियमित उड़ानें उपलब्ध हैं।

रेलगाड़ी का रास्ता

उदयपुर सिटी रेलवे स्टेशन है

 यह स्टेशन देश के अन्य शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।


 

यह शहर राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 8 पर स्थित है। यह जयपुर से 9 घंटे, दिल्ली से 14 घंटे और मुंबई से सड़क मार्ग से 17 घंटे की दूरी पर स्थित है।

Comments

Popular posts from this blog

Best tourist places in Sikkim

Nathula pass Sikkim बेस्ट टूरिस्ट प्लेसिज इन सिक्किम Gangtok नमस्कार मित्रो  में राजकुमार बघेल और जैसा कि आप जानते हो में एक प्रोफेशनल ट्रैवलर हूं और टैवल से जुडे हुए अपने अनुभव ब्लाग के माध्यम से आप लोगों से सेयर करता हूँ। Zero valley आज में आपको भारत के राज्य सिक्किम के बेस्ट टूरिस्ट प्लेसिज  के बारे में बताऊंगा। वैसे तो भारत को विविधताओं का देश भी कहा जाता है। क्योंकि यहाँ पर आपको हर तरह का मौसम देखने के लिए मिल जाएगा भारत के हर कोने में आपको अलग मौसम अलग भाषा और अलग ही माहौल देखने को मिलेगा चलिए आज आपको सिक्किम  के कुछ  बेस्ट टूरिस्ट प्लेसिज  के बारे में बताते हैं। गंगटोक गंगटोक सिक्किम की राजधानी है वैसे तो सिक्किम की हर जगह बहुत ही सुंदर है और सिक्किम के हर कोने में बेहतरीन टूरिस्ट प्लेस हैं परंतु अभी में मुख्य स्थलों के बारे में बताऊंगा। Sikkim marriage function Best tourist places in Himachal Pradesh  1 एमजी मार्ग   एमजी मार्ग गंगटोग की मुख्य सडक है और यह भारत की एकमात्र ऐसी सडक है जो कुडे और कचरे से पूर्णत: मुक्त है

My first visit to the hill queen Mussoorie. part-1

पहाडों की रानी मसूरी की मेरी पहली यात्रा नमस्कार मित्रो में राज कुमार बघेल और में एक प्रोफेशनल ट्रैवलर हूं और यात्रा से सम्बंधित मेरे जो भी अनुभव हैं वो में आपके साथ शेयर करूँगा और अगर आपको यात्रा से सम्बंधित कोई भी सवाल पूछना है तो वो आप मुझे कमेंट बॉक्स में लिखकर पूछ सकते हैं। Mussoorie trip मुख्य समस्या :- दोस्तों घूमना फिरना , नयी जगह पर जाना और हिल स्टेशन किसे पसंद नहीं है आज हर कोई इन जगहों पर जाने का सपना अपने मन में लिए हुए है. परन्तु एक परेशानी सबके सामने खड़ी होती है वो है पैसे की कमी  परन्तु अगर सही से मैनेज किया जाये तो ये कमी भी दूर हो सकती है जैसे मैं करता हूँ कम पैसों में भी आप कहीं भी घूमने का आनंद ले सकते हो फिर चाहे वो कोई शहर हो या हिल स्टेशन बस सही समय और सही तरीका होना चाहिए  में आपको अपने दोस्तों के साथ अपनी पहली यात्रा के अनुभव के बारे में बताता हूँ जो बहुत ही कम पैसों में बहुत ही अच्छी यात्रा थी जिसने मेरी ज़िन्दगी जीने का अंदाज ही बदल दिया. George everest Mussoorie यात्रा का अनुभव :- बात सं 2011 की है जब में

Top 20 Most Visited Places in Jammu and Kashmir

Top 20 Most Visited Places in Jammu and Kashmir Jammu and Kashmir Nestled in the lap of the Himalayas , Jammu and Kashmir is a union territory and is known throughout the country and the world for its natural beauty. Many scenic spots, tourist places, temples and monasteries are located here.  It is one of the most popular holiday destinations in India, Jammu and Kashmir. The famous Mughal emperor Jahangir is said to have announced after seeing the beauty of the place that there is a paradise on earth. There is no fixed time or month to visit this place, as Jammu Kashmir attracts tourists with its pleasant weather throughout the year.  Jammu Kashmir is a good place for trekking, but all these activities are closed during the winter season. Kashmiri Apple  So if you are planning to visit these places, then definitely see if the places you want to visit are also open or not. In this article today, we will tell you about the famous tourist destinations of J